Header Ads Widget

Ticker

6/recent/ticker-posts

हिंदी भाषा की उत्पत्ति और विकास | Hindi bhasha ki utpati aur Vikash

 

हिंदी भाषा की उत्पत्ति और विकास | Hindi bhasha ki utpati aur Vikash

हिंदी भाषा की उत्पत्ति

भारत में भाषा का विकास आर्यों के आगमन से माना जाता है। आर्यों के साथ जिस भाषा का विकास हुआ उसे हम संस्कृत कहते हैं। आर्य भारत में मध्य एशिया से सिंधु द्वार के द्वारा भारत के पंजाब प्रांत में आए थे। संस्कृत से जो भी भाषा का विकास हुआ उन्हें भारतीय आर्य भाषा कहते हैं भारतीय आर्य भाषा को तीन भागों में बांटा गया है।

प्राचीन आर्य भाषा
मध्यकालीन आर्य भाषा
आधुनिक आर्य भाषा

हिंदी भाषा का विकास

हिंदी विश्व की लगभग 3000 भाषाओं में से एक है। आकृति या रूप के आधार पर हिंदी वियोगात्मक भाषा है। हिंदी  भारतीय-ईरानी शाखा के  भारतीय आर्य भाषा की एक भाषा है । हिंदी भारोपीय भाषा परिवार का हिस्सा है। भारत में 4 भाषा परिवार है।

भारोपीय - भारोपीय भाषा परिवार की बोली भारत में 73% बोली जाती है। यह भारत का सबसे बड़ा भाषा परिवार है। हिंदी भारत के बाद सबसे अधिक पाकिस्तान में तथा उसके बाद मॉरीशस में बोली जाती है। 

द्रविड - द्रविड़ भाषा परिवार की बोली भारत में 25% बोली जाती है। इस भाषा परिवार की प्रमुख भाषा तेलुगु और मलयालम है जो दक्षिण राज्यों में बोली जाती है।

आस्ट्रिक - आस्ट्रिक भाषा परिवार की बोली भारत में 1.3% बोली जाती है। इस भाषा परिवार की प्रमुख भाषा मुंडा और संथाली है । यह मध्यप्रदेश , छत्तीसगण के जनजातीय लोगो के द्वारा बोली जाती है.

चीनी-तिब्बती - चीनी-तिब्बती भाषा परिवार की बोली भारत में 0.7% बोली जाती है। इस भाषा परिवार की भाषाओ को समस्त पूर्वी उत्तर राज्यों में बोलै जाता है. इन्हे बोलने बाले लोगो को निशात कहते है। 

हिंदी भाषा का विकास क्रम

संस्कृत--- पाली -----प्राकृत -----अपभ्रंश -----अवहट्ट--- हिंदी

 हिंदी भाषा का इतिहास

  1. हिंदी की पहली रचना श्रावणकाचार है, जिसे देव सेन ने लिखा था।
  2. हिंदी का पहला महाकाव्य पृथ्वीराज रासो है जिसे चंद्रवरदाई ने लिखा था हिंदी का पहला कवि चंद्रवरदाई को कहा जाता है।
  3. डॉक्टर गणपति चंद्र के अनुसार हिंदी के पहले कवि शालीभद्र सुरी थे तथा इनकी पहली रचना भारतेश्वर बाहुबली है यह जैन साहित्य से संबंधित है।
  4. राहुल सांकृत्यायन के अनुसार हिंदी के पहले कवि सरहपा है इनकी पहली रचना दोहा कोश थी।
  5. हिंदी शब्द का भाषा के लिए सर्वप्रथम प्रयोग ईरानीयों ने किया था।
  6. भाषा के लिए हिंदी शब्द का लिखित रूप से सर्वप्रथम प्रयोग शफरुद्दीन के जफरनामा मैं मिलता है।
  7. भाषा के लिए हिंदी शब्द का सबसे अधिक बार प्रयोग अमीर खुसरो ने खालिकबारी ग्रंथ में 5 बार किया है। तथा हिंदवी शब्द का प्रयोग 30 बार किया है।

हिंदी राजभाषा है या राष्ट्रभाषा

राजभाषा का अर्थ होता है सरकारी कामकाज की भाषा भारतीय संविधान के भाग 17 के अनुच्छेद 343 से 351 तक राजभाषा संबंधी प्रावधान दिए गए हैं।

गोपाल स्वामी आयंगर ने 14 सितंबर 1949 को हिंदी भाषा को राज्य भाषा के रूप में प्रस्तुत किया तथा इसी दिन हिंदी को भारत की राजभाषा घोषित कर दिया गया।

14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। 

भारत देश के राज्य और उनकी भाषा

भारत एक ऐसा देश है जहां  पग पग पर  बोलियां  बदल जाती है । इस देश में 29 राज्य हैं और लगभग हर किसी राज्य की अपनी एक भाषा है।

भारत के 9 राज्य ऐसे हैं जिन की राजभाषा हिंदी है इनको हम हिंद प्रदेश के नाम से जानते हैं।
मध्य प्रदेश , उत्तर प्रदेश , छत्तीसगढ़ , राजस्थान , झारखंड बिहार , उत्तराखंड , हिमाचल प्रदेश , हरियाणा

भारत में दिल्ली एकमात्र ऐसा केंद्र शासित प्रदेश है देश की राजभाषा हिंदी है।


     राज्य.                                        भाषा    

1. जम्मू कश्मीर.                                उर्दू
2. बंगाल                                          बंगला
3. केरल                                           मलयालम
4. लक्ष्यद्वीप                                   मलयालम
5. गोवा                                            कोकणी
6. असम                                          असमिया
7. नागालैंड़                                       अंग्रेजी
8. मेघालय                                        अंग्रेजी
9. मिजोरम                                       अंग्रेजी
10. मणिपुर                                       मणिपुरी
11. तमिलनाडु                                   तमिल
12. आंध्र प्रदेश                                   तेलुगू
13. महाराष्ट्र                                      मराठी



राजभाषा आयोग की स्थापना

प्रथम राजभाषा आयोग का गठन 7 जून 1955 को किया गया था इसकी अध्यक्षता बाल गंगाधर खेर ने की थी।


संसदीय राजभाषा आयोग का गठन 16 नवंबर 1957 को किया गया था इसके अध्यक्ष गोविंद बल्लभ भाई पंथ थे।


राजभाषा अधिनियम

प्रथम राजभाषा अधिनियम 1963 में हुआ इस अधिनियम में हिंदी को 10 वर्षों के लिए बढ़ा दिया गया था अर्थात हिंदी को राजभाषा तथा अंग्रेजी को इसी तरह प्रयोग में लाया जाएगा जिस तरह स्वतंत्रता से पहले प्रयोग में लाया जाता था।



दूसरा राजभाषा अधिनियम 1976 में हुआ इस अधिनियम के तहत यह प्रावधान किए गए कि हिंदी किस प्रकार प्रयोग में लाई जा रही है उसी प्रकार अनंत वर्षों तक प्रयोग में लाई जाएगी तथा अंग्रेजी का प्रयोग यथा स्थान रहेगा जब तक संसद कोई कानून नहीं बनाती।


NOTE - 


  • नागरी हिंदी प्रचारिणी सभा की स्थापना 1893 में श्यामसुंदर सेन तथा ठाकुर शिवसिंह के द्वारा की गयी थी। 
  • दक्षिणी हिंदी सभा की स्थापना 1915 में महात्मा गांधी के द्वारा की गयी थी। 
  • 4 फरवरी 1916 को पंडित मदनमोहन मालवीय ने वनारस हिंदी विश्व विद्यालय की स्थापना की थी। 
  • हिंदी को सर्वपर्थम भाषा के रूप में बेलग्राम अधिवेशन के तहत स्वीकार किया गया जिसकी अध्यक्षता महात्मा गांधी ने 1924 में की थी। 
  • अंतराष्ट्रीय हिंदी विश्व विद्यालय की स्थापना वर्धा महाराष्ट्र में 1927 में हुई थी। 
  • आचार्य नरेन्द्रदेव की अध्यक्षता में सन 1947 में लिपि सुधार  आयोग का गठन किया गया था। 
  • मध्यप्रदेश का पहला राष्ट्रिय हिंदी विश्व विद्यालय भोपाल में सन 2011 में खोला गया तथा शिक्षण कार्य 2013 में प्रारम्भ हुआ। 
  • गद्य शैली के जनक भारतेन्दु हरिश्चंद्र को कहाँ  जाता है। 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां