Header Ads Widget

Ticker

6/recent/ticker-posts

Madhya Pradesh Rajya Ki Pramukh Nadiyan Aur Inke Udgam Sthal ( मध्य प्रदेश राज्य की प्रमुख नदियां और इनके उद्गम स्थल )

Madhya Pradesh Rajya Ki Pramukh Nadiyan aur inke udgam sthal ( मध्य प्रदेश राज्य की प्रमुख नदियां और इनके उद्गम स्थल )


नमस्ते दोस्तों आज की पोस्ट में हम आपके लिए लेकर आए हैं। Madhya Pradesh Rajya Ki Pramukh Nadiyan aur inke udgam sthal ( मध्य प्रदेश राज्य की प्रमुख नदियां और इनके उद्गम स्थल ) मध्य प्रदेश राज्य में मुख्य रूप से 20 नदियां बहती हैं। मध्य प्रदेश की सबसे बड़ी नदी नर्मदा नदी है इस नदी की लंबाई 1077 किलोमीटर है। और मध्य प्रदेश की सबसे छोटी नदी तवा नदी है।


मध्य प्रदेश राज्य की प्रमुख नदियां और इनके उद्गम स्थल


नदियां किसी भी राज्य की जीवन रेखा कहलाती है। नदिया किसी भी राज्य के लिए मत्स्य पालन के लिए , विद्युत बनाने के लिए , खेती करने के लिए आवश्यक होती हैं। यदि किसी राज्य में नदियां नहीं हो तो वह राज्य कृषि प्रधान राज्य नहीं कहलाएगा क्योंकि भारत में कृषि से संबंधित सभी कार्य नदियों , कुए , तालाब आदि पर निर्भर हैं।


  • मध्य प्रदेश राज्य में दक्षिण दिशा की ओर वैनगंगा नदी बहती है।
  • पश्चिम दिशा की ओर नर्मदा एवं ताप्ती नदी बहती हैं।
  • उत्तर दिशा की ओर चंबल , बेतवा , सोन नदियां बहती है।

नर्मदा नदी

  • नर्मदा नदी मध्य प्रदेश की सबसे बड़ी नदी है नर्मदा नदी का उद्गम स्थल विद्यांचल पर्वत की मेकाल श्रेणी की सबसे ऊंची चोटी अमरकंटक है। 
  • नर्मदा नदी की कुल लंबाई 1312 किलोमीटर है परंतु मध्यप्रदेश में इस नदी की लंबाई 1077 किलोमीटर है।
  • यह नदी मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र एवं गुजरात में बहती हुई भडौच के निकट खंभात की खाड़ी में गिरती है। 
  • नर्मदा नदी भारत की पांचवी सबसे बड़ी नदी है , इस नदी का सबसे ज्यादा फायदा मध्य प्रदेश को मिलता है।

चंबल नदी

  • चंबल नदी का प्राचीन नाम धर्मावती था। 
  • चंबल नदी का उद्गम स्थल मऊ जिले की जानापाव पहाड़ी से हुआ है ।
  • इस नदी की कुल लंबाई 965 किलोमीटर है।
  • चंबल नदी मध्य प्रदेश और राजस्थान के बीच सीमा का निर्धारण करती है।
  • चंबल नदी की प्रमुख सहायक नदियां काली ,सिंध ,पार्वती बनास है।
  • चंबल नदी पर राणा प्रताप सागर बांध , कोटा बांध एवं गांधी सागर बांध बनाए गए हैं।
  • चंबल नदी से मुरैना भिंड जिला में अवनालिका अपरदन द्वारा बिहार ओं का निर्माण होता है।

 सोन नदी 


  • सोन नदी की कुल लंबाई 780 किलोमीटर है सोन नदी मध्य प्रदेश के शहडोल , सीधी , उमरिया तथा उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिलों में बहती हुई बिहार में  गंगा नदी में मिल जाती है।
  • सोन नदी का उद्गम स्थल मैकल श्रेणी की अमरकंटक चोटी से हुआ है।
  • 1000 वर्ष पहले यहां नदी गंगा में पटना के नीचे मिलती थी।
  • सोन नदी के जल प्रवाह का कुल क्षेत्रफल 17900 वर्ग किलोमीटर है।

ताप्ती नदी


  • ताप्ती नदी पूर्व से पश्चिम की ओर बहती है।
  • ताप्ती नदी की कुल लंबाई 724 किलोमीटर है यहां मध्य प्रदेश में बैतूल खंडवा जिलों में बहती है।
  • ताप्ती नदी की सहायक नदी पूर्णा नदी है।
  • ताप्ती नदी गुजरात में स्थित खंभात की खाड़ी में गिरती है।

बेतवा नदी


  • बेतवा नदी का उद्गम स्थल रायसेन जिले के कुमरा गांव से हुआ है।
  • बेतवा नदी उत्तर प्रदेश मैं हमीरपुर के निकट यमुना नदी में मिलती है।
  • बेतवा नदी की कुल लंबाई 380 किलोमीटर है।
  • बेतवा नदी उत्तर पूर्व दिशा में बहती है। और यह नदी मध्य प्रदेश उत्तर प्रदेश की सीमा का निर्धारण करती है।
  • बेतवा नदी की सहायक नदियां बीना , धसान , सिंध है।

क्षिप्रा नदी


  • क्षिप्रा नदी का उद्गम इंदौर के पास काकरी बड़ी पहाड़ी से होता है।
  • क्षिप्रा नदी की कुल लंबाई 195 किलोमीटर है।
  • क्षिप्रा नदी की सहायक नदी चंबल , खान नदी है।
  • क्षिप्रा नदी मध्य प्रदेश के उज्जैन रतलाम मंदसौर जिलों से होकर निकलती है।

कूनो नदी


  • कूनो नदी की कुल लंबाई 180 किलोमीटर है।
  • कूनो नदी चंबल की सहायक नदी है यह नदी शिवपुरी पठार से निकलती है।

काली सिंध नदी


  • काली सिंध नदी राजगढ़ एवं शाजापुर जिला में बहती हुई चंबल नदी में मिल जाती है।
  • कालीसिंध नदी की कुल लंबाई 200 किलोमीटर है।
  • कालीसिंध नदी देवास जिले के बागली गांव के निकट विद्यांचल पर्वत से निकलती है।

तवा नदी


  • मध्य प्रदेश का सबसे लंबा बांध तवा नदी पर बनाया गया है।
  • तवा नदी होशंगाबाद के निकट नर्मदा नदी में मिल जाती है।
  • तवा नदी का उद्गम महादेव पर्वत की काली भीत पहाड़ी से होता है।

धसान नदी


  • धसान नदी सागर जिले से निकलती है यह नदी उत्तर की ओर प्रवाहित होकर यमुना नदी में मिल जाती है।

वर्धा नदी


  • वर्धा नदी महाराष्ट्र में गहरे चट्टानी क्षेत्र से बहते हुए वैनगंगा नदी में जाकर मिलती है।
  • वर्धा नदी बैतूल से निकलती है।

शक्कर नदी


  • शक्कर नदी का उद्गम स्थल छिंदवाड़ा जिले के अमरवाड़ा से 18 किलोमीटर उत्तर में हुआ है।
  • यहां सतपुड़ा महाखंड कोयला क्षेत्र को पार करके नर्मदा नदी में मिल जाती है।

छोटी तवा नदी


  •  छोटी तवा नदी बैतूल जिले में आवना व सुक्ता नदियों से मिलकर बनती है।
  • छोटी तवा नदी खंडवा के उत्तर में आवना से मिल जाती है।

गार नदी


  • गार नदी उत्तर की ओर प्रवाहित होकर नर्मदा नदी में जाकर मिल जाते हैं।
  • गार नदी सिवनी जिले के लखना से निकलकर कोयले की संकरी घाटी में से प्रवाहित होती है।

सिंध नदी


सिंध नदी गुना जिले से निकलती है, यह नदी शिवपुरी , गुना दतिया , भिंड जिले में प्रवाहित होती हुई इटावा के पास चंबल नदी में मिल जाती है।

पार्वती नदी


  • पार्वती नदी का उद्गम स्थल सीहोर है।
  • पार्वती नदी गुना तथा चाचौड़ा तहसीलों में 37 किलोमीटर तक बहती हुई चंबल नदी में जाकर मिल जाती है।

कुंवारी नदी


  • क्वारी नदी शिवपुरी पठार से निकलकर भिंड की लहार तहसील में सिंध नदी में मिल जाती है ।
  • कुंवारी नदी एकमात्र ऐसी नदी है  जो चंबल नदी के समानांतर बहती है।

टोंस नदी


  • टोंस नदी का उद्गम सतना जिले की कैमूर पहाड़ी से होता है।
  • टोंस नदी सिरसा में गंगा नदी में मिलकर समाप्त हो जाती है।

केन नदी


  • केन नदी विद्यांचल पर्वत से निकलती है और उत्तर की ओर प्रवाहित होती है।
  •  केन नदी कटनी एवं वादा जिलों से गुजरकर यमुना नदी में मिल जाती है।

वैनगंगा नदी


  • वैनगंगा नदी महाराष्ट्र में वर्धा नदी से मिलकर समाप्त होती है बहन गंगा की सहायक नदियों में कानन , पेच, बावनथड़ी मुख्य हैं।
  • वैनगंगा नदी का उद्गम सिवनी जिले के परसवाड़ा पठार से होता है वैनगंगा नदी सिवनी एवं छिंदवाड़ा जिलों के बीच प्रवाहित होती है।

मधयप्रदेश के प्रमुख जलप्रपात ( Madhayprdesh Ke Prmukh Jalprpat )


मध्यप्रदेश के प्रमुख जलप्रपात                            मध्यप्रदेश की प्रमुख नदिया  (स्थल)                         

1. धुआधार जलप्रपात                                                 1. नर्मदा नदी पर स्थित (भेड़ाघाट)

2. दुग्धधारा जलप्रपात                                                2. नर्मदा नदी पर स्थित (अनूपपुर )

3. मंधार जलप्रपात                                                      3. नर्मदा नदी पर स्थित  (खंडवा)

4. कपिलधारा जलप्रपात                                              4 . नर्मदा नदी पर स्थित (अमरकंटक)

5. सहस्त्रधारा जलप्रपात                                              5. नर्मदा नदी पर स्थित (महेश्वर)

6. दर्दी जलप्रपात                                                         6. नर्मदा पर स्थित (खंडवा)

7. चचाई जलप्रपात                                                      7.बीहड़ नदी पर स्थित (रीवा)

8. पांडव जलप्रपात                                                       8. केन नदी (पन्ना)

9. चूलिया जलप्रपात                                                     9. चम्बल नदी (मध्यप्रदेश)

10. राहतगढ़ जलप्रपात                                                 10. चम्बल नदी (सागर)

11. पाताल पानी  जलप्रपात                                          11. चम्बल नदी (इंदौर)

12. झाड़ीदाहा जलप्रपात                                              12. चम्बल नदी (इंदौर)

13. केवटी जलप्रपात                                                    13. बीहड़ नदी (रीवा)

14. बहूटी जलप्रपात                                                      14. बीहड़ नदी (रीवा)

15. भालकुण्ड जलप्रपात                                                  15. सागर 

16. डचेस फाल जलप्रपात                                                 16. पचमढ़ी 

17. पियवान जलप्रपात                                                    17. रीवा के पास स्थित 

18. शंखर खो जलप्रपात                                                   18. जामनेर 

19. अप्सरा जलप्रपात                                                       19. पचमढ़ी 

20. रजत जलप्रपात                                                          20. पचमढ़ी 

21. केदारनाथ जलप्रपात                                                   21.अरावली श्रखला 

22.पुरवा जलप्रपात                                                           22. रीवा के निकट 

23. बिहोली जलप्रपात                                                       23.रीवा के निकट 

                                

मध्यप्रदेश की प्रमुख सहायक नदियां कौन-कौन सी हैं ।

नदी                                                               सहायक नदिया 


1. नर्मदा                                                   हिरन , तिनदोनी , तवा , बरनार 

2. चम्बल                                                  बनास , पार्वती , कालीसिंध 

3. सोन                                                      जोहिला 

4. ताप्ती                                                    पुरना 

5. बेतवा                                                    घसान , बीना , सिंध 

6. तवा                                                       मालिनी , देनवा , सुखतवा , कालीभीत 

7. क्षिप्रा                                                      खान 

8. बेनगंगा                                                  पेंच , कानन 





दोस्तों इस पोस्ट को आप ज्यादा से ज्यादा शेयर करे.आपको यह जानकारी किसी लगी हमे कमेंट बॉक्स में बताये। 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां